भारतीय भाषाओं द्वारा ज्ञान

Knowledge through Indian Languages

Dictionary

Definitional Dictionary of Philosophy (English-Hindi) (CSTT)

Commission for Scientific and Technical Terminology (CSTT)

A B C D E F G H I J K L M N O P Q R S T U V W X Y Z

Please click here to view the introductory pages of the dictionary
शब्दकोश के परिचयात्मक पृष्ठों को देखने के लिए कृपया यहाँ क्लिक करें।

< previous12Next >

Quakerism

क्वेकरवाद
जॉर्ज फॉक्स (1624-1691) द्वारा स्थापित सोसायटी ऑफ फ्रेंड्स नामक धार्मिक संस्था के अनुयायियों का मत जिसमें आंतरिक प्रकाश से निर्देशन लेना, बाह्य अनुशास्तियों से मुक्ति, मौन का महत्व, रहन-सहन की सादगी तथा दूसरों के साथ शांतिपूर्वक रहने पर बल दिया गया है।

Qualitative Atomism

गुणात्मक परमाणुवाद
परमाणुओं को ब्रह्मांड के अंतिम घटक तथा उनके मध्य गुणात्मक अंतर माननेवाला सिद्धांत।

Qualitative Hedonism

गुणात्मक सुखवाद
सुखवाद का वह रूप जो परिमाणात्मक भेद के अतिरिक्त सुखों में गुणात्मक भेद भी मानता है जैसा कि मिल ने माना है।

Quality

गुण
1. वस्तु में स्वतः पाई जाने वाली (अर्थात् अ-संबंधमूलक) विशेषता।
2. तर्कशास्त्र में, वह विशेषता जो प्रतिज्ञप्तियों को विधानात्मक और निषेधात्मक बनाती है।

Quantification

परिमाणन
तर्कशास्त्र में, किसी प्रतिज्ञप्ति में उसके परिमाण का बोधक शब्द (जैसे, सभी या कुछ) जोड़ना अथवा किसी प्रतिज्ञप्ति-फलन में उसका परिमाण का व्यंजक प्रतीक लगा देना।
नीतिशास्त्र में, सुखों की मात्रएँ निर्धारित करना ताकि तुलना के लिए उनका योगफल निकाला जा सके।

Quantification Of Predicate

विधेय-परिमाणन
हैमिल्टन के तर्कशास्त्र में उद्देश्य की तरह विधेय के परिमाण को भी ‘कुछ’ या ‘सभी’ लगाकर व्यक्त करना, जैसे, ”सभी मनुष्य प्राणी हैं” को ”सभी मनुष्य कुछ प्राणी हैं” के रूप में रखना।

Quantifier

परिमाणक
वह शब्द (जैसे, सभी, कुछ) या प्रतीक जो किसी प्रतिज्ञप्ति के परिमाण का (अर्थात् उसके सर्वव्यापी या अंशव्यापी होने का) बोध कराता है।

Quantitative Atomism

परिमाणात्मक परमाणुवाद
परमाणुओं को विश्व के अंतिम घटक और उनमें केवल परिमाणात्मक अंतरों को मानने वाला सिद्धांत।

Quantitative Hedonism

परिमाणात्मक सुखवाद
बैंथम का नीतिशास्त्रीय सिद्धांत जो सुखों में केवल मात्रा-भेद मानता है, गुण-भेद नहीं।

Quantity

परिमाण
1. ‘इतना’, ‘उतना’, ‘अधिक’, ‘कम’ इत्यादि प्रत्ययों के द्वारा विशिष्ट लक्षण।
2. तर्कशास्त्र में, प्रतिज्ञप्तियों की वह विशेषता जिससे उनमें सर्वव्यापी और अंशव्यापी का भेद उत्पन्न होता है।

Quasi Collective Judgement

संकलनात्मक कल्प निर्णय, समूहवाची कल्प निर्णय
बोसांके के तर्कशास्त्र में वह सर्वव्यापी प्रतिज्ञप्ति जो संबंधित एक-व्यापी प्रतिज्ञप्तियों का संकलित रूप प्रतीत होती है, पर वास्तव में ऐसी नहीं होती। उदाहरण के लिए ”सभी मनुष्य मरणशील हैं”, ”राम मरणशील है”, ”श्याम मरणशील है”, ”मोहन मरणशील है” – इत्यादि प्रतिज्ञप्तियों का योगफल प्रतीत होती है, पर वास्तव में वह है नहीं। इसी प्रसंग में रसल ने सर्वव्यापी प्रतिज्ञप्ति को अनस्तित्व परक (non-existential) और अंशव्यापी प्रतिज्ञप्ति को अस्तित्वपरक (existential) कहा है।

Quasi-Conscience

अन्तार्विवेक-कल्प
जब कोई व्यक्ति किसी ऐसे सिद्धांत के विरूद्ध कर्म करता है जिसे वह सर्वोच्च नैतिक महत्तव का नहीं मानता, ऐसी स्थिति में उसके भीतर जो पीड़ा उत्पन्न होती है, उसे मैकेन्जी ने अर्न्तविवेक-कल्प की संज्ञा दी है।

Quasi-Numerical Quantifier

संख्या-कल्प परिमाणक
वाक्य में प्रयुक्त ”कुछ”, ”अनेक”, ”अधिकतर” जैसे शब्द जो प्रतिज्ञप्ति के परिमाण को निश्चित संख्या के रूप में व्यक्त नहीं करते उन्हें संख्या-कल्प परिमाणक कहते हैं।

Quasi-Ostensive Definition

निदर्शक-कल्प परिभाषा
वह परिभाषा जिसमें संकेत के साथ-साथ कुछ वर्णनात्मक शब्दों का भी प्रयोग होता है, जैसे : ”मेज इस तरह के फर्नीचर को कहते हैं”, जो इस आशंका के कारण किया जाता है कि श्रोता कहीं उंगली के सामने पड़नेवाली किसी अन्य वस्तु को, जैसे एक रंग-विशेष को, मेज न समझ बैठे।

Quasi-Substantive

द्रव्यक कल्प, अर्द्धतात्त्विक
जॉनसन के तर्कशास्त्र में, वह शब्द जो मुख्यतः विशेषण का कार्य करता है, पर एक विशेष वाक्य में विशेष्य के रूप में प्रयुक्त हुआ हो।

Quaternary Relation

चतुष्पदी संबंध
वह संबंध जो चार पदों के मध्य हो। उदाहरण : ”राम ने मोहन से गाय लेकर सोहन को दी।

Quaternio Terminorum

चतुष्पद दोष
देखिए “fallacy of four terms”।

Queen Monad

प्रधान चिदणु
लाइब्नित्ज़ के अनुसार, चिदणुओं की एक संहति में वह चिदणु जो सबसे अधिक विकसित होता है, से शरीर में मन या बुद्धि।

Question Begging Epithet

प्रमाणापेक्ष विशेषण
ऐसा विशेषण जिसका प्रयोग किसी प्रमाण के बिना कर दिया गया हो और इसलिए जिसका प्रतिवाद किया जा सकता हो।

Quibbling

वाक्छल
ऐसे तर्कों का प्रयोग जो विवाद को मुख्य विषय से हटा दे और वह महत्वहीन बातों में उलझ कर रह जाए।
< previous12Next >

Search Dictionaries

Loading Results

Follow Us :   
  Download Bharatavani App
  Bharatavani Windows App