भारतीय भाषाओं द्वारा ज्ञान

Knowledge through Indian Languages

Dictionary

Vanijya Paribhasha Kosh (English-Hindi) (CSTT)

Commission for Scientific and Technical Terminology (CSTT)

A B C D E F G H I J K L M N O P Q R S T U V W X Y Z

शब्दकोश के परिचयात्मक पृष्ठों को देखने के लिए कृपया यहाँ क्लिक करें
Please click here to view the introductory pages of the dictionary

Public sector

सार्वजनिक क्षेत्रक
अर्थव्यवस्था का वह क्षेत्र जो सरकारी, अर्थ-सरकारी या स्वशासी निकायों के नियंत्रण में है।
तुल. दे. private sector

Qualification shares

पात्रता-शेयर, अर्हता शेयर
जहाँ कंपनी के अंतर्नियमों में व्यवस्था हो वहाँ निदेशक के पद के लिए अपेक्षित शेयरधारिता।

Qualified acceptance

सशर्त सकार, सशर्त स्वीकृति
बिल या हुंडी सकारते समय अदाकर्ता द्वारा उसकी मुख्य बोतों जैसे, रक़म, परिपक्वता-तिथि, अदायगी के स्थान आदि के विषय में अपनी ओर से कोई मर्यादा लगा देना।
इसके मुख्य भेद दे. conditional acceptance, partial acceptance

Quality control

कोटि-नियंत्रण, गुणता-नियंत्रण
पूर्व-निर्धारित मानकों के आधार पर सांख्यिकीय तकनीकों एवं व्यवस्थित नमूना-चयन की सहायता से वस्तु की गुणवत्ता को क़यम रखने के उपाय।

Quantity discount

परिमाण-बट्टा
किसी वस्तु को बड़ी मात्रा में ख़रीदने पर विक्रेता द्वारा दी जाने वाली छूट।

Quota

कोटा, नियंतांश
अ – किसी वस्तु की पूर्ति अपर्याप्त होने पर उसका न्यायोचित वितरण करने के उद्देश्य से उसके उत्पादक अथवा अन्य प्राधिकारी द्वारा वितरकों या प्रयोक्ताओं के लिए आवंटित की जाने वाली अधिकतम मात्रा।
आ – अंतर्राष्ट्रीय व्यापार के नियमन की दृष्टि से एक अवधि विशेष के लिए किसी वस्तु के आयात-नियति की अधिकतम निर्धारित मात्रा।

Quotation

दर, भाव, निर्ख़
अ – ख़रीदार के पूछने पर विक्रेता द्वारा अपनी वस्तु अथवा सेवा की क़ीमत लिखकर अथवा मौखिक रूप में बताना। इस प्रकार बताई गई क़ीमत उस सौदे विशेष तक ही सीमित रहती है।
आ – किसी तिथि विशेष को स्टॉक एक्सचेंज में शेयरों, प्रतिभूतियों आदि के उद्धृत मूल्य।

Rate

दर, रेट
अ – दो इकाइयों के बीच प्रचलित अथवा निर्धारित विनिमय-अनुपात जैसे, विदेशी मुद्रा की विनिमय-दर।
आ – भार, इकाई आदि के अनुसार नियत की गई क़ीमत।
इ — लोकोपयोगी सेवाओं का प्रति इकाई प्रभार।
ई – परिवहन के संदर्भ में, भार की इकाई के अनुसार ढुलाई ख़र्च।

Rateable value

दर-निर्धार्य मूल्य, कर-योग्य मूल्य
स्थानीय शुल्क अथवा कर का निर्धारण करने के लिए संपत्ति आदि का कूता गया मूल्य। इसका आधार मकान, फैक्टरी अथवा दुकान से मिल सकने वाला किराया होता है।

Rationalization

युक्तीकरण
उद्योग में कार्यकुशलता लाने तथा उत्पादन में अधिकतम वृद्धि करने के उद्देश्य से फैक्टरी का वैज्ञानिक आधार पर प्रबंध और उत्पादन की अधुनातन तकनीक एवं समुन्नत मशीनरी का प्रयोग ‘युक्तीकरण’ है।

Real income

वास्तविक आय
मुद्रा के रूप में प्राप्त आय की क्रय-शक्ति अर्थात् उससे ख़रीदी जा सकने वाली वस्तुओं और सेवाओं की मात्रा।

Rebate

कटौती, छूट
प्रभार्य या देय राशि में से भुगतान के समय काटी गई या बाद में लौटाई जाने वाली रक़म। व्यापारिक चलन में ‘छूट’ और बट्टे में कभी-कभी अंतर किया जाता है – छूट को प्रदत्त मूल्य के एक अंश की वापसी मानते हैं जबकि बट्टा भुगतान के समय देय राशि में से काटी गई रक़म है।

Recapitalization

पुनः पूँजीकरण
किसी कंपनी के पूँजी स्टॉक को घटा या बढ़ाकर उसकी पूँजी संरचना में परिवर्तन करना।

Recourse

उपाश्रय, वसूली-अधिकार
ऋणी द्वारा ऋण, हुंडी या रूक़्क़े का भुगतान न करने पर आदाता का उसकी गारन्टी देने वालों या (हुंडी के मामले में) पृष्ठांकितियों से रक़म वसूलने का अधिकार।

Recovery

पुनरूत्थान
मंदी के निम्नतम बिंदु के गुज़र जाने के बाद व्यावसायिक कार्यकलापों में पुनः वृद्धि।

Redeemable debenture

प्रतिदेय डिबंचर
ऐसा डिबेंचर जिसकी रक़म एक निश्चित तारीख़ को, या डिबेंचरधारी के माँगे जाने पर, चुकाने के लिए कंपनी वचनबद्ध है।

Redemption

प्रतिदान, शोधन
अ – ऋणी से नियत समय पर भुगतान न मिलने की स्थिति में, बंधकदाता द्वारा क़ानूनी कार्यवाही करके बंधक संपत्ति पर ऋणी के प्रयोगाधिकार को निषिद्ध करा देने के बाद, ऋणी का एक निश्चित अवधि के भीतर देय राशि का भुगतान करके संपत्ति पर पुनः अधिकार प्राप्त करना।
आ – अधिमान शेयर, डिबेंचर आदि जारी करने वाली कंपनी द्वारा पूर्वनिश्चित दर पर भुगतान करके इन्हें अधिमान शेयरधारियों अथवा डिबेंचरधारियों से वापिस ले लेना।

Reflation

प्रत्यवस्फीति
मंदी के समय क़ीमत-स्तर को बढ़ाकर रोज़गार तथा आर्थिक क्रिया में वृद्धि लाने के उद्देश्य से अपनाई गई मुद्रा-व्यवस्था की प्रक्रिया। मंदी अथवा सुस्ती के बाद अर्थव्यवस्था को पहले जैसी स्थिति में लाने के लिए सरकारें प्रायः अपनी मुद्रा की मात्रा बढ़ाकर मुद्रा की क्रय-शक्ति को घटा देती हैं। ऐसा करने का उद्देश्य यह होता है कि क़ीमतें सामान्य स्तर पर आ जाएँ।

Regressive tax

प्रतिगामी कर, ह्रासमान कर, अवरोही कर
वह कर जिसमें कर के आधार में वृद्धि होने के साथ-साथ कर की दर घटती जाती है। यथा, करदाता की आय जितनी ही अधिक होगी अनुपाततः उतनी ही कम दर पर उसे कर देना पडेगा।
तुल. दे. progressive tax

Re-insurance

पुनर्बीमा
बड़ी रक़मों के बीमा अनुबंधों में निहित जोखिम को एक से अधिक बीमाकर्ताओं के बीच फैलाने के उद्देश्य से मूल बीमा कंपनी द्वारा बीमित राशि के एक अंश का बीमा किसी अन्य कंपनी या कंपनियों से करा लेने की प्रक्रिया। व्यवहार में, कभी-कभी पूरे जोखिम का ही अंतरण कर दिया जाता है।

Search Dictionaries

Loading Results

Follow Us :   
  Download Bharatavani App
  Bharatavani Windows App