भारतीय भाषाओं द्वारा ज्ञान

Knowledge through Indian Languages

Dictionary

Vanijya Paribhasha Kosh (English-Hindi) (CSTT)

Commission for Scientific and Technical Terminology (CSTT)

A B C D E F G H I J K L M N O P Q R S T U V W X Y Z

शब्दकोश के परिचयात्मक पृष्ठों को देखने के लिए कृपया यहाँ क्लिक करें
Please click here to view the introductory pages of the dictionary

Depreciation reserve

मूल्यह्रास आरक्षित निधि
प्रतिष्ठान की आय से आवधिक तौर पर निर्मित निधि जो किसी क्षीयमाण स्थायी परिसंपत्ति के मूल्य में होने वाली कमी की पूर्ति करती है।

Depression

मंदी
व्यवसाय की वह स्थिति जबकि क़ीमतें नीची, आय और मौद्रिक व्यय अत्यधिक कम और बेरोज़गारी बहुत अधिक हो।

Devaluation

अवमूल्यन
सरकार द्वारा विदेशी मुद्रा की तुलना में अपने देश की मुद्रा की विनिमय-दर में कमी करना। यह नीति भुगतान-शेष को संतुलित करने के उद्देश्य से आयात में कमी और निर्यात में वृद्धि करने के लिये अपनाई जाती है।

Differential duty

विभेदक शुल्क
दे. preferential duty

Differential rate

विभेदक दर
विभिन्न प्रकार के प्रयोक्ताओं या वस्तुओं के लिए मानक दर से भिन्न न्यूनाधिक दर। इसका प्रयोग प्रायः परिवहन के क्षेत्र में होता है।

Direct tax

प्रत्यक्ष कर
ऐसा कर जिसका प्रत्यक्ष मौद्रिक भार किसी अन्य व्यक्ति पर विवर्तित न किया जा सके अर्थात् जिसका कराघात (impact) और करापात (incidence) एक ही व्यक्ति पर हो। आयकर और संपत्ति कर इसके उदाहरण हैं।
तुल. दे. Indirect tax

Disability benefit

अशक्तता हितलाभ, अपंगता हितलाभ
अ – काम के दौरान कर्मचारी के चोट लग जाने और उसकी वजह से अशक्त अथवा अपंग हो जाने पर नियोजक द्वारा दिया जाने वाला मुआवज़ा।
आ – जीवन बीमा पॉलिसी में जोड़ा गया विशेष प्रावधान जिसके अंतर्गत यदि बीमादार पूर्ण अथवा स्थायी अपंगता का प्रमाण पत्र दे दे तो उससे बीमा-किश्त लेना बंद कर दिया जाता है और किन्ही मामलों में मासिक भत्ता भी दिया जाता है।

Disbursement

संवितरण, बाँटना
लेखाविधि तथा प्रशासन के क्षेत्र में ‘संवितरण’ से तात्पर्य है नक़द भुगतान। ‘संवितरण’ शब्द ‘विनियोग’ और ‘व्यय’ दोनों से भिन्न है क्योंकि विनियोग भुगतान का सिर्फ प्राधिकरण है और व्यय है किसी देयता का अस्तित्व में आना।

Discharge

दायित्व-मुक्ति
बिल, हुंडी आदि उधार-प्रपत्र की ऐसी अदायगी जिसके साथ प्रपत्र-धारक के सभी दावे समाप्त हो जाते हैं।

Discount

बट्टा
वह राशि जो पेशगी काट दी जाए जैसे, कोई भुगतान लेने से पहले उसमें से अनुमत रक़म कम कर देना।
discount के प्रमुख प्रकारों के लिये दे. bank discount, cash discount, quantity discount, trade discount.

Discriminating monopoly

भेदमूलक एकाधिकार
ऐसी बाज़ार-स्थिति जिसमें एकाधिकारी विभिन्न क्रेताओं से एक ही वस्तु की अलग-अलग क़ीमतें वसूल करता है। यह तभी संभव है जब (1) वस्तु तथा सेवाओं का सस्ते बाज़ार से महँगे बाज़ार में स्थानांतरण न हो सके; तथा (2) क्रेता महँगे बाज़ार से सस्ते बाज़ार में न आ सकें।

Discriminatory taxation

भेदमूलक कराधान
किसी उद्योग विशेष को प्रतियोगिता-क्षम बनाने के लिये किसी अन्य उद्योग पर लगाया जाने वाला कर। उदाहरणार्थ, भारत में हथकरघा कपड़े के हित में मिलों में बने कपड़े पर लगाया जाने वाला कर।

Dishonour

नकार, अस्वीकृति
सामान्यतः किसी दावे अथवा दायित्व को पूरा करने से इंकार करना; विशेष रूप से, किसी हुंडी, चैक, रुक़्क़े अथवा अन्य उधार-प्रपत्र का भुगतान करने से मुकरना अथवा प्रस्तुत किये जाने पर सकारने से इंकार करना।

Disinflation

विस्फीति
स्फीति के विरुद्ध राजकोषीय एवं मौद्रिक उपाय अपनाकर क़ीमत स्तर को नीचा करना।

Disinvestment

विनिवेश
पूँजी के अवक्षयण या मूल्यह्रास की क्षतिपूर्ति न करना अथवा पहले से किए गए निवेश को वापिस ले लेना। ‘विनिवेश’ के कारण कुल पूँजी में कमी आ जाती है।
समान. negative investment

Display

सज्जा, सजावट
इश्तिहार अथवा समाचार-पत्र विज्ञापन में दिए गए चित्र, शीर्ष या आकर्षक उपवाक्य; दुकान के शो केस में प्रदर्शित वस्तुएँ, मॉडल आदि।

Dissaving

निर्बचत
वह स्थिति जिसमें आय की अपेक्षा व्यय अधिक होता हैं। स्फीति के दौरान ऐसा विशेषतः होता है क्योंकि कुछ व्यक्ति अपनी बचत का आश्रय लेकर या ऋण लेकर अपने जीवन-स्तर को पूर्ववत् ही बनाए रखने का प्रयास करते हैं।

Dissolution

विघटन
किसी संविदा अथवा अनुबंध को संविदागत पक्षों की सहमति अथवा कार्रवाई द्वारा तोड़ना अथवा निरस्त करना जैसे, किसी फ़र्म साझेदारी का समापन।

Distress sale

आपात-बिक्री
अ – मंदी की आशंका से व्यापारियों द्वारा माल काटना।
आ – दिवालिया हो जाने अथवा दुकान उठाने की स्थिति में माल अथवा परिसंपत्तियों को औने-पौने बेचना।

Diversification

विविधीकरण, विशाखन
अ – एक ही कंपनी द्वारा विभिन्न प्रयोगों में आने वाली और विभिन्न बाज़ारों में बिकनेवाली बहुत-सी वस्तुओं का एक साथ उत्पादन।
आ – निवेश के संदर्भ में : विविध कंपनियों की प्रतिभूतियों में धन लगाना ताकि पूँजी डूबने की जोखिम बँटी रहे और उससे मिलने वाला प्रतिफल अधिकतम हो सके।

Search Dictionaries

Loading Results

Follow Us :   
  Download Bharatavani App
  Bharatavani Windows App