भारतीय भाषाओं द्वारा ज्ञान

Knowledge through Indian Languages

Dictionary

Definitional Dictionary of Cell Biology (English-Hindi) (CSTT)

Commission for Scientific and Technical Terminology (CSTT)

A B C D E F G H I J K L M N O P Q R S T U V W X Y Z

Please click here to view the introductory pages of the dictionary
शब्दकोश के परिचयात्मक पृष्ठों को देखने के लिए कृपया यहाँ क्लिक करें।

< previous1234Next >

B-cell/B lymphocyte

बी. – कोशिका/बी. लसीकाणु
छोटा लसीकाणु जो स्तनियों की अस्थिमज्जा या भ्रूणिय यकृत में तथा पक्षियों की फ्रैबिसी प्रपुटी में विभेदित होता है । अक्षत अवस्था में इनकी सतह पर विशिष्ट प्रतिरक्षी होते है । प्रतिजन के संपर्क में आने पर ये बड़ी संख्या में परिसंचारी प्रतिरक्षी स्रावी प्लाज़्मा कोशिकाओं और स्मृति कोशिकाओं के रूप में परिपक्व होते हैं ।

B-cell stimulatory factor

बी. – कोशिका उद्दीपन कारक
टी, कोशिकाओं द्वारा उत्पादित प्रोटीन कारक जो असक्रियित बी. – कोशिकाओं पर क्रिया करके वर्ग एम.एच.सी. कोशिका – पृष्ठ अणुओं की अभिव्यक्ति को बढ़ाता है और सक्रियित बी – कोशिकाओं द्वारा प्रतिरक्षी स्राव को उद्दीप्त करता है । कुछ टी.-कोशिकाओं तथा मास्ट कोशिकाओं पर भी इसका उद्दीपक प्रभाव पड़ता है ।

B-chromosome

बी. – गुणसूत्र
सामान्य अथवा विपथी गुणसूत्र की अतिरिक्त प्रतियाँ जो सामान्यतः हेटेरोक्रोमैटिनी एवं आनुवंशिकतः अनावश्यक होती है । इस प्रकार के गुणसूत्र मक्का, टिड्डी तथा कई अन्य प्राणियों एवं पौधों की प्रजातियों में पाए जाते हैं ।

B-form of DNA

डी.एन.ए. का बी. – रूप
दक्षिणावर्ती द्विकुंडलिनीय डी.एन.ए. का प्रमुख जीवे रूप, जिसके प्रत्येक आवर्त में 10 न्यूक्लिओटाइड होते है ।

B-lymphocyte

दे. B.Cell.

Back mutation (reverse mutation)

प्रतीप उत्परिवर्तन
उत्परिवर्ती जीन में वंशागमी प्रत्यावर्तन जिसके फलस्वरूप उस प्रकिण्व या प्रकार्य का पुनः स्थापन होता है जिसे वह तथाकथित ‘अग्र उत्परिवर्तन’ के कारण खो चुका हो ।

Back – cross

प्रतीप प्रसंकर
संतति का अपने जनकों में से किसी एक के साथ प्रसंकरण । (तु. Breeding)

Backcross parent

प्रतीपप्रसंकर जनक
ऐसे संकर का जनक जिसके साथ उसका फिर से प्रसंकरण किया जाय या जिसके साथ उसका बार – बार प्रसंकरण हो ।

Bacteriocidin

बैक्टिरिओसाइडिन
पदार्थ जो जीवाणुओं को मार देता है ।

Bacteriocin (bacteriocine)

बैक्टिरिओसिन
कई प्रकार की जीवाणु जातियों द्वारा स्रावित (उत्पन्न) प्रोटीन. जो संवेदी जीवाणुओं के लिए घातक होते हैं । इनका बनना और इनके प्रति रक्षात्मक गुण सूत्रबाह्य कारकों द्वारा निर्धारित होता है ।

Bacteriophage

जीवाणुभोजी
ऐसा विषाणु, जो जीवाण्विक परपोषी पर संक्रमण करके अपना प्रतिकृतियन करता है । इसका संक्षिप्त नाम विभोजी है । उदाहरण लैम्डा -, टी- और पी. – विभोजी ।

Bacteriostatic agent

जीवाणुस्थापिक कर्मक
वह पदार्थ जो जीवाणुओं को मारे बिना ही उनकी वृद्धि को रोकता है ।

Bacteroid

जीवाणुसम
जीवाणु जैसी अथवा आपरिवर्तित जीवाणु-कोशिक । शिंबों (फलियों) वाले पादपों की मूल ग्रंथिकाओं में पाई जाने वाली विकृत राइज़ोबियम कोशिका ।

Bag cell

थैली कोशिका
ऐप्लीसिया में पाया जाने वाला एक स्रावी न्यूरोन जो अंडे देने की प्रक्रिया का नियमन करता है ।

Balanced lethal

संतुलित घातक
विभिन्न समजात गुणसूत्रों में पाए जाने वाले दो गैरविकल्पी अप्रभावी घातक जीन जिसके फलस्वरूप द्विक विषमयुग्मजी जीवनक्षम बना रहता है ।

Balanced stock

संतुलित संभार
आनुवंशिक प्रभव जो बहुयुग्मक होते हुए भी वरण के बिना ही पीढ़ी दर पीढ़ी बना रहता है । ऐसे प्रभव में संतुलित घातक जीन हो सकते हैं या फिर कोई घातक अप्रभावी जीन हो सकता है जो र्धयुग्मक नरों को मार देता है और ऐसे विक्लपहीन अप्रभावी जीन से मिल जाता है, जो समयुग्मक मादाओं में बंध्यता उत्पन्न करता है ।

Balanced translocation

संतुलित स्थानांतरण
दो असमजात गुणसूत्रों के बीच पदार्थ का परस्पर विनिमय । इस प्रक्रिया से कोई भी गुणसूत्र नष्ट नहीं होता, और दो एक केंद्री गुणसूत्र बन जाते हैं । ये दोनों एककेंद्री गुणसूत्र समसूत्रण के दौरान सामान्यतः अलग-अलग हो जाते हैं और इस प्रकार कायिक कोशिकाओं में गुणसूत्रों की सामान्य द्विगुणित संख्या बनी रहती है ।

Balbiani chromosome

बाल्बियानी गुणसूत्र
बहुपट्टीय गूणसूत्र । खोज सन् 1881 ई. में जी. बाल्बियानी ने काइरोनोमस लारवा में की थी । ये कुछ द्विपंखी मक्खियों की लारग्रंथियों में भी पाए जाते हैं ।

Balbiani ring

बाल्बियानी वलय
बहुपट्टीय गुणसूत्र का एक अत्यधिक विशाल आफुल्ल जहाँ सक्रिय आर.एन.ए. का संश्लेषण होता है ।

Band

पट्टी
किसी पाँलीटीन गुणसूत्र में विद्यमान उदग्र पट्टी जो युग्मित कायिक गुणसूत्र बंडल में एक ही स्तर पर बहुत सी समजात वर्ण – कमिकाओं के साथ – साथ होने से बनती है ।
< previous1234Next >

Search Dictionaries

Loading Results

Follow Us :   
  Download Bharatavani App
  Bharatavani Windows App