भारतीय भाषाओं द्वारा ज्ञान

Knowledge through Indian Languages

Dictionary

Definitional Dictionary of Philosophy (English-Hindi) (CSTT)

Commission for Scientific and Technical Terminology (CSTT)

A B C D E F G H I J K L M N O P Q R S T U V W X Y Z

Please click here to view the introductory pages of the dictionary
शब्दकोश के परिचयात्मक पृष्ठों को देखने के लिए कृपया यहाँ क्लिक करें।

Joint Denial

संयुक्त निषेध
दो प्रतिज्ञाप्तियों के एक साथ निषेध के लिए प्रतीकात्मक तर्कशास्त्र में प्रयुक्त एक चिह्न (↓)।

Joint Method Of Agreement And Difference

संयुक्त – अन्वय – व्यतिरेक विधि
मिल के तर्कशास्त्र में, कार्यकारण का संबंध निर्धारित करने की एक विधि, जिसका सूत्र यह है : यदि एक घटना के घटने के कई दृष्टांतों में एक परिस्थिति समान रूप से विद्यामान रहती है और उस घटना के न घटने के कई दृष्टांतों में अन्य बातों के प्रायः समान रहते हुए उस परिस्थिति का भी अभाव रहता है, तो उस घटना तथा परिस्थिति में कार्य – कारण का संबंध है।
उदाहरण : यदि एक व्यक्ति अनेक बार यह देखता है कि जब भी उसने खीर खाया, उसके पेट मे दर्द हुआ, और खीरा न खाने पर पेट में दर्द नहीं हुआ, तो खीरा खाना पेट के दर्द का कारण है।

Judgement Of Fact

तथ्य – निर्णय
वस्तुस्थिति को बतानेवाला या बताने का दावा करने वाला निर्णय जैसे, चंद्रमा एक ठंडा उपग्रह है। इस प्रकार के निर्णय प्राकृतिक या वर्णनात्मक विज्ञानों के क्षेत्र में आते हैं।

Judgement Of Taste

सौंदर्य – निर्णय
किसी वस्तु के बारे में यह कथन कि वह सुुन्दर, कलात्मक या मनोरम है। इस प्रकार के कथन मूल्यनिर्णय के सामान्य वर्ग में आते हैं।

Judgement Of Value

मूल्य – निर्णय
निर्णय का वह प्रकार जो किसी वस्तु का तार्किक, नैतिक या सौंदर्य – शास्त्रीय मूल्यांकन करता है, अर्थात् किसी बात को सत्य या असत्य, अच्छी या बुरी, सुन्दर या असुन्दर बताने वाला निर्णय। इस तरह के निर्णय मानकीय नियामक विज्ञानों के अंतर्गत आते हैं।

Jural Ethics

विधिक नीतिशास्त्र
वह नीतिशास्त्र या नीतिशास्त्रीय सिद्धांत जो विधिशास्त्र का अनुसरण करते हुए साध्य और शुभ की अपेक्षा नियम और उसके अनुसरण तथा औचित्य के संप्रत्ययों को प्रमुखता देता है।

Justice

न्याय, नायायशीलता
प्लेटो के द्वारा स्वीकृत चार मुख्य सद्गुणों में से एक। यह तब होता है जब समाज का प्रत्येक व्यक्ति अपना कार्य सुचारू रूप से करता है और दूसेर के कार्य में कोई बाधा नहीं डालता फलस्वरूप, समाज में पूर्ण सामंजस्य रहता है। इसकी आधुनिक अवधारणा में मुख्य तत्व है, नियमों का पालन, स्वतंत्रता, समानता, निष्पक्षता तथा योग्यतानुसार प्राप्ति।

Search Dictionaries

Loading Results

Follow Us :   
  Download Bharatavani App
  Bharatavani Windows App