भारतीय भाषाओं द्वारा ज्ञान

Knowledge through Indian Languages

Dictionary

Definitional Dictionary of Philosophy (English-Hindi) (CSTT)

Commission for Scientific and Technical Terminology (CSTT)

A B C D E F G H I J K L M N O P Q R S T U V W X Y Z

Please click here to view the introductory pages of the dictionary
शब्दकोश के परिचयात्मक पृष्ठों को देखने के लिए कृपया यहाँ क्लिक करें।

< previous123456Next >

Method

प्राक्कल्पना-निगमनात्मक विधि
विज्ञान में प्रयुक्त वह विधि जिसमें घटना के कारण इत्यादि की प्राक्कल्पना कर ली जाती है और उससे निगमनात्मक निष्कर्ष निकालकर प्रेक्षण और प्रयोग से इनकी जाँच की जाती है।

Macrocosm

ब्रह्माण्ड
विश्व का विराट् स्वरूप।

Maecenatism

मिसीनैसी, वृत्ति, कला – प्रतिपालन, कला – संरक्षण
कला और कलाकारों को उदारतापूर्वक संरक्षण देने की वृत्ति के लिए रोम के दो कवियों, होरेस और वर्जिल, के आश्रयदाता मिसीनेस के नाम से प्रचलित शब्द।

Magic

जादू, जादू – टोना, अभिचार
1. वह विद्या जिसमें तंत्र – मंत्र के प्रयोग से किसी (आत्मा, देवता, भूत – प्रेत आदि) अलौकिक शक्ति का आराधन करके, उसके द्वारा कोई अभिप्रेत कार्य सम्पन्न कराया जाता है। 2. तंत्र- मंत्र से प्राप्त अलौकिक शक्ति।

Manners

शिष्टाचार
व्यक्ति के व्यवहार का वह गुण जो सभ्य समाज के मूल्यों एवं मानदंडों के अनुरूप होता है।

Materialistic Monism

भौतिकवादी एकतत्त्ववाद
वह तत्त्वमीमांसीय मत कि मूलतत्त्व केवल एक है और वह जड़ है।

Materialistic Realism

भौतिकवादी यथार्थवाद
भौतिक वस्तुओं के स्वतंत्र अस्तित्व में विश्वास रखने वाला मत।

Materialization

भौतिकीकरण
यूनानी चिन्तन में विशेष रूप से पाइथागोरस के अनुसार मनुष्य की आत्मा जो मूलतः दिव्य है, का भौतिक देह ग्रहण करना।

Material Cause

उपादान – कारण
वह सामग्री जिससे कोई वस्तु उत्पन्न होती है या बनाई जाती है, जैसे घड़े के प्रसंग में मिट्टी।

Material Equivalence

वास्तविक तुल्यता
ऐसे दो कथनों का संबंध जो या तो दोनों सत्य होते हैं या दोनों असत्य।

Material Logic

वस्तुपरक तर्कशास्त्र
तर्कशास्त्र का वह रूप जो विचारों की पारस्परिक संगति के साथ – साथ वास्तविकता से संगति को भी अध्ययन का विषय बनाता है।

Material Obversion

वस्तुपरक प्रतिवर्त्तन
बेन (Bain) के अनुसार प्रतिवर्त्तन का एक रूप, जिसमें निष्कर्ष के उद्देश्य और विधेय मूल प्रतिज्ञप्ति के उद्देश्य और विधेय के विपरीत या व्याघातक होते हैं, किन्तु प्रतिज्ञाप्ति के गुण में कोई परिवर्तन नहीं होते : जैसे ‘युद्ध अशुभ है; ∴शान्ति शुभ है’। यह अनुमान अनुभव तथा ज्ञान पर आधारित होता है न कि प्रतिज्ञाप्तियों के आकार पर।

Material Truth

वस्तुगत सत्यता
प्रतिज्ञप्तियों की वह तार्किक विशेषता जो तथ्यों से संगत होने पर उनमें आती है।

Material Implication

शाब्दिक आपादन
कोपी (Copi) के अनुसार “यदि – तो -” आकारवाला एक ऐसा कथन जिसका फल – भाग (“तो” वाला अंश) हास्यजनक ढंग से किसी असंभव बात को कहता है और इसलिए जिसका हेतु – भाग (“यदि” वाला अंश) असत्य होता है, जैसे “यदि रावण भला आदमी था तो मैं बंदर का मामा हूँ”। ऐसे कथन में हेतु और फल के मध्य कोई वास्तविक या तार्किक अनिवार्यता का संबंध नहीं होता। उसका उद्देश्य किसी बात का एक हास्यजनक तरीके से निषेध करना मात्र होता है।

Mathematical Induction

गणितीय आगमन
अनंत धन – पूर्णांकों के बारे मे कोई निष्कर्ष निकालने के लिये प्रयुक्त इस प्रकार की अनुमान – क्रिया : “0 में गुणधर्म ग है; यदि किसी धन – पूर्णांक अ में गुणधर्म ग है तो उसके अनुक्रमी अ +1 में भी वह गुणधर्म ग है; अतः प्रत्येक धन – पूर्णांक में गुणधर्म ग है।”

Mathematical Intuitionism

गणितीय अंतः – प्रज्ञावाद
ब्राउवर (Brouwer), हेटिंग (Heyting) आदि की विचारधारा, जिसने गणित को दर्शन एवं तर्कशास्त्र की अपेक्षा प्राथमिकता दी और इस बात पर बल दिया कि गणितीय संप्रत्ययों तथा अनुमानों का अंतःप्रज्ञा के माध्यम से स्वतः ही स्पष्ट बोध होता है।

Mathematical Logic

तर्कगणित
प्रतीकात्मक तर्कशास्त्र, जिसमें साधारण भाषा के दोषों से बचने के लिए प्रतीकों की भाषा और गणितीय संक्रियाओं का उपयोग किया जाता है।

Mathesis Universalis

सार्वभौम गणित
लाइब्नित्ज़ द्वारा प्रस्तावित एक प्रतीक-पद्धति जिसका प्रयोजन सभी विज्ञानों की तर्क-प्रक्रियाओं को व्यक्त करने के लिए एक समान और सबके लिए सुबोध आधार प्रदान करना था। लाइब्नित्ज़ के इस प्रस्ताव को आधुनिक प्रतीकात्मक तर्कशास्त्र के विकास में पहला चरण माना जाता है।

Matter

1.भौतिक द्रव्य, पुद्गल : परिमाण, विस्तार, संहतत्व, जड़त्व, आकर्षण, विकर्षण आदि गुणधर्मों से युक्त वह द्रव्य जिससे दृश्य जगत् की वस्तुओं का निर्माण हुआ है।
2. उपादान, वस्तु : वह सामग्री जिससे कोई वस्तु बनाई जाती है (material)। अरस्तू के अनुसार, आकार (from) से भिन्न वह स्थूल और अनियत पदार्थ जिसे आकार प्रदान किया जाता है।
कांट के अनुसार, संवेदन की वह वैविध्यपूर्ण सामग्री जो ज्ञानेंद्रियों के माध्यम से मन के सामने प्रस्तुत होती है तथा प्रागनुभविक आकारों (a priori forms) के द्वारा व्यवस्थित की जाती है।

Mechanism

यांत्रिकवाद
विश्व, प्रकृति या जीवित प्राणी को यंत्र के समान कुछ सुनिश्चित नियमों के अनुसार स्वतः चालित मानने वाला सिद्धांत। यह विशेष रूप से प्रयोजनवत्ता और संकल्प स्वातंत्रय का विरोधी है।
< previous123456Next >

Search Dictionaries

Loading Results

Follow Us :   
  Download Bharatavani App
  Bharatavani Windows App