भारतीय भाषाओं द्वारा ज्ञान

Knowledge through Indian Languages

Dictionary

Definitional Dictionary of Petrology (English-Hindi)(CSTT)

Commission for Scientific and Technical Terminology (CSTT)

A B C D E F G H I J K L M N O P Q R S T U V W X Y Z

simple sill

एकवेधी सिल :
मैग्मा के एकल अन्तर्वेधन से प्रतिफलित सिल ।

size frequency distribution

साइज आवृत्ति बंटन :
साइज के आधार पर अवसाद के खण्डज कणों का विभिन्न कोटियों में पृथक्करण (sorting) जो कि प्रत्येक साइज कोटि में कणों की प्रतिशतता (भार अथवा संख्या) से व्यक्त होता है ।

skarn

स्कार्न :
चूनाधारी सिलिकेटों से निर्मित शैल जो शुद्ध चूनापत्थर अथवा डोलोमाइटी चूनापत्थर से व्युत्पन्न होता है । इसमें सिलिका, एल्यूमिनियम लोहा, मैग्नीशियम के अंशों का समावेश मेटासोमैटिज्म से होता है । आरम्भ में इस शब्द का प्रयोग सिलिकेट गैग खनिजों के लिए प्रयुक्त होता था ।

slate

स्लेट :
एक सूक्ष्मणिक कायान्तरित शैल जिसमें स्लेटी विदलन (cleavage) बहुत अच्छी तरह विकसित रहता है । यह शैल शेल के कायान्तरण के फलस्वरूप निर्मित होता है ।

slaty cleavage

स्टेली विदलन :
शल्कन (foliation) का एक प्रकार जो स्लेटों में प्रारूपिक रूप से मिलता है परन्तु यह कई अन्य प्रकार के कायान्तरित शैलों में भी पाया जाता है । इस प्रकार का शल्कन सामान्यतः सपाट या दीर्घवृत्तज खनिओं के समान्तर विन्यास के कारण प्रतिफलित होता है ।

solfatara

गैसमीची ज्वालमुखी :
वह ज्वालामुखी क्षेत्र या रंध्र जिसमें से अधिकांशतः केवल सल्फ्युरिक गैसें निकलती हैं । यह एक प्रकार का वाष्पमुख (fumarole) ही है जो ज्वालामुखी सक्रियता की क्षीण अवस्था को निरूपित करता है ।

soret principle

सोरेट सिद्धांत :
तापीय प्रवणता के प्रभाव से पदार्थ का विलयन में विसरण । इसे तापीय विसरण भी कहते हैं । (thermo-diffusion) ।

sorting

प्रवरण/सॉटिग :
वह प्रक्रम जिसके द्वारा विभिन्न साइजों के अवसादी कण परिवहन और निक्षेपण के दौरान एक दूसरे से पृथक्कृत होते हैं ।

sphericity

गोलकत्व :
किसी कण की लम्बाई, चौड़ाई और मोटाई में परस्पर सम्बन्ध, विशेषतया अवसादी कणों के आकार का गोलक की ओर होने की प्रवृत्ति ।

spheryte

स्फ़ेराइट, गुलिकाश्म :
उन अवसादी शैलों के बृहत् प्रमाप वाले घटकों के लिए प्रयुक्त एक गठन सम्बन्धी शब्द जो रचनात्मक परन्तु अखण्डज (non-clastic) उत्पत्ति के होते हैं ।

spilite

स्पिलाइट :
एक प्रकार का बैसाल्टी शैल जो सामान्यतः स्फोटगर्ती (vesicular) या वातामकी (amygdaloidal) होता है और जिसमें फैल्डस्पार एल्बाइटीभूत अवस्था में पाए जाते हैं । पाइरॉक्सीन या एम्फिबोल इस शैल में थोड़े-बहुत परिवर्तित रूप में मिलते हैं और इसमें कभी-कभी सर्पेन्टीनीभूत ऑलिवीन भी विद्यमान हो सकता है ।

spotted schist

चित्तीदार शिस्ट :
एक प्रकार का शिस्टाभ भृण्मय शैल जिस पर निम्न से मध्यम कोटीय संस्पर्श कायान्तरण के परिणामस्वरूप पॉर्फिरोब्लास्टी खनिज शिस्टाभता लिए हुए निर्मित हो जाते हैं और ये प्रारम्भी क्स्टलन के द्योतक होते हैं । ऐसे खनिओं से शैल में चित्तियाँ या धब्बे विकसित दिखाई पड़ते हैं ।

spitted slates

पृषत् स्लेट, चित्तीदार स्लेट :
वे मृण्मय शैल जिन पर मध्यम कोटीय संस्पर्शी कायान्तरण के परिणामस्वरूप धब्बे विकसित हो जाते हैं जो कि नए खनिजों के प्रारम्भी क्रिस्टलन के द्योतक होते हैं ।

stalactite

स्टैलैक्टाइट :
हिमलंब के आकार का एक कैल्सियमी संचय जो चूनाश्म की गुफाओं की छत से लटका रहता है ।

stalagmite

स्टैलैग्माइट :
एक दण्डाकार कैल्सियमी संचय जो चूनाश्म की गुफाओं की फर्श से ऊपर की ओर बढ़ता है ।

static metrmorphism

स्थैतिक कायांतरण :
एक प्रकार का क्षेत्रीय कायान्तरण जो उच्च दाबों पर ऊष्मा और विलायकों की क्रिया द्वारा घटित होता है । इसमें उच्च दाब शैलों के उपरिवर्ती भार के कारण उत्पन्न होता है न कि पर्वतनिक विरूपण के कारण ।

stoss (side)

अभिपवन (पार्श्व)
वायु अथवा हिमनद जिस ओर से संचलित होता है उसकी तरफ वाला पहाड़ी या टिब्बे का पार्श्व । ‘Lee’ की परिभाषा भी देखिए ।

strain

विकृति :
प्रतिबल के परिणामस्वरूप किसी पिंड (body) की आकृति और आयतन में परिवर्तन ।

stratification

1. स्तर विन्यास, 2. स्तरण :
1. अवसादी शैलों का संस्तरों या स्तरों में विन्यास ।
2. अवसादी शैलों का संस्तरों या स्तरों में विन्यस्त होने का प्रक्रम ।

stratum

स्तर, स्ट्रैटम :
विभिन्न मोटाइयों वाली स्तरित शैल की एक इकाई जिसका अपना एक विशिष्ट आश्मिक गुण होता है जिसके कारण वह अपने ऊपर अथवा नीचे के अन्य स्तरों से अलग पहचानी जा सकती है ।

Search Dictionaries

Loading Results

Follow Us :   
  Download Bharatavani App
  Bharatavani Windows App